Sorted:

होठों की हंसी को मत समझ हकीकत-ए-जिन्दगी, दिल में उतर के देख कितने उदास है हम तेरे बिना !!

मैनूं इक पल चैन ना आवे सजना तेरे बिना.. ओ मेरा कलेया जी नहीं लगणा सजना तेरे बिना

मेरी हर खुशी हर बात तेरी है साँसो में छुपी ये हयात तेरी है दो पलभी नहीं रह सकते तेरे बिना धड़कनो की धड़कती हर आवाज तेरी है

मेरा आसमान ढूंढें तेरी ज़मीं मेरी हर कमी को है तू लाज़मी ज़मीं पे ना सही तो आसमां पे आ मिल तेरे बिना गुज़ारा ऐ दिल है मुश्किल

महसूस खुद को तेरे बिना.. मैंने कभी किया नहीं तू क्या जाने लम्हा कोई मैंने… कभी जिया नहीं!!!

मत पूछ कैसे गुज़र रहा है हर पल मेरा तेरे बिना, कभी बात करने की हसरत कभी मिलने की तमन्ना

ना सोचा था जिनके लिए हम मर मिटे, एक दिन वही हमसे दूर हो जाएँगे, जीने की तमन्ना तो हम भी रखते थे, पर अब तेरे बिना कैसे जी पाएगे…

दर्द भरा है दिल में इतना की रोने को दिल करता.. तेरे बिना बेजान सा अब तो होने को दिल करता

तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे, तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे

तेरे बिना जीना मुश्किल है …! ये तुझे बताना और भी मुश्किल है…